व्यापार

नोट के बाद अब सोना पर चोट? घर में रखे सोने पर टैक्स लगाने की तैयारी में सरकार 

 नई दिल्ली 
सोने में कालाधन रखने वालों की अब खैर नहीं। सूत्रों के मुताबिक सरकार नोटबंदी के बाद दूसरा सबसे बड़ा कदम उठाने की तैयारी में है। एक तय मात्रा से ज्यादा बिना रसीद के सोना रखे होने पर उसकी जानकारी देनी होगी और उसकी कीमत सरकार को बतानी होगी। साथ ही उसपर टैक्स चुकाना होगा और न बताने पर भारी जुर्माना लगेगा। बता दें कि नोटबंदी के दिन 01
 
इसके लिए सरकार वर्ष 2017 में पेश प्रधानमंत्री गरीब कल्याण योजना जिसे आईडीएस 2 कहा गया था, की तर्ज पर  सोने के लिए खास योजना ला सकती है। सूत्रों के मुताबिक वित्त मंत्रालय के आर्थिक मामलों के विभाग और राजस्व विभाग ने मिलकर इस योजना का मसौदा तैयार किया है। सूत्रों की मानें तो वित्त मंत्रालय ने अपना प्रस्ताव कैबिनेट के पास भेज दिया है और जल्द ही कैबिनेट से इस योजना को मंजूरी मिल सकती है।

सूत्रों का कहना है कि अक्तूबर के दूसरे हफ्ते में ही कैबिनेट में इस पर चर्चा होनी थी लेकिन महाराष्ट्र और हरियाणा में चुनाव की वजह से अंतिम समय पर फैसला टाल दिया गया था। सूत्रों से मिली जानकारी अनुसार इस स्कीम के तहत सोने की कीमत तय करने के लिए मूल्यांकन केन्द्र से प्रमाणपत्र (सर्टिफिकेट) लेना होगा। ये स्कीम एक खास समय सीमा के लिए ही होगी।। यह वर्ष 2014-16 की एमनेस्टी स्कीम की तर्ज पर होगी।

सोने में कालेधन पर प्रहार के साथ ही स्वर्ण बॉन्ड को और आकर्षक बनाने की तैयारी कर रही है। स्वर्ण बॉन्ड को गिरवी रखने की अनुमति मिल सकती है। इसकी छह किस्त अभी तक जारी कर चुकी है। 

मंदिर-ट्रस्ट भी आएंगे इस दायरे में 
सरकार देश में मंदिर और ट्रस्ट के पास पड़े सोने को भी उपयोगी बनाने की योजना पर विचार कर रही है। इनके सोने को उपयोगी बनाने के लिए सरकार जल्द महत्वपूर्ण घोषणा कर सकती है।

मूल्यांकन केन्द्र से प्रमाणपत्र जरूरी
योजना के तहत सोने की कीमत तय करने के लिए मूल्यांकन केन्द्र से प्रमाणपत्र (सर्टिफिकेट) लेना होगा। इसके तहत बिना रसीद वाले जितने सोने का खुलासा करेंगे उस पर एक तय मात्रा में टैक्स देना होगा। 

वैश्विक बाजारों के मजबूत रुख और कमजोर रुपये से दिल्ली सर्राफा बाजार में बुधवार को सोना 87 रुपये बढ़कर 38,842 रुपये प्रति दस ग्राम हो गया। चांदी भी 450 रुपये की तेजी के साथ 47,220 रुपये प्रति किलोग्राम पर पहुंच गई। इससे पहले दिन के कारोबार में अमेरिकी मुद्रा के मुकाबले रुपया 11 पैसे कमजोर रहा। फेड की समीक्षा में ब्याज दर के बारे में कोई फैसला आने से पहले निवेशकों ने सतर्कता बरती।
 

Related Articles

Back to top button
Close