विदेश

इजरायल ने गाजा मचाई भीषण तबाही, 6 बच्चों समेत 24 मरे, 200 से ज्यादा घायल, आज युद्ध की आशंका

तेल अवीव
 इजरायल के हवाई हमलों ने गाजा में कई घरों को पूरी तरह से तबाह कर दिया है, जबकि दक्षिणी इजरायल में फिलिस्तीनी रॉकेट का बैराज दूसरे दिन भी आना जारी रहा, जिससे मध्यपूर्व में भारी संघर्ष की आशंका बढ़ गई है। गाजा के स्वास्थ्य मंत्रालय ने कहा है कि, तटीय पट्टी में अब तक 24 लोग मारे गए हैं, जिनमें छह बच्चे भी शामिल हैं। इससे पहले शुक्रवार को भी इजरायल ने भारी हमला किया था, जिसमें गाजा पट्टी के एक और आतंकवादी संगठन 'इस्लामिक जिहाद' के वरिष्ठ आतंकवादी कमांडर समेत 7 लोगों को मौत हो गई थी और इजरायल ने कहा है, कि वो अगले एक हफ्ते तक हमास और दूसरे आतंकी संगठनों के खिलाफ ऑपरेशन चलाएगा।
 
मध्य-पूर्व में बड़े संघर्ष की आशंका
गाजा पर शासन करने वाला सबसे बड़ा आतंकवादी संगठन हमास, जो अभी तक इस संघर्ष की तीव्रता में शांत बैठा हुआ था और ऐसा लग रहा था, कि वो संघर्ष को किनारे पर बैठकर देख रहा है, वो भी अभ संघर्ष में कूद पड़ा है। अब तक इस्लामिक जिहद ही इजरायल से लड़ रहा था। इज़राइल और हमास ने बमुश्किल एक साल पहले ही युद्ध लड़ा था, जो पिछले 15 वर्षों में चार प्रमुख संघर्षों और कई छोटी लड़ाइयों में से एक है, जिसने काफी गरीब माने जाने वाले गाजा क्षेत्र की स्थिति को और भी खराब कर दिया था। वहीं, कई एक्सपर्ट्स का कहना है, कि हमास इस लड़ाई में शामिल होता है या नहीं, यह इस बात पर निर्भर करता है, कि इजरायल गाजा पर कितना हमला करता है। इजरायल लगातार गाजा को अपने रॉकेट से निशाना बना रहा है, जिससे गाजा में भारी तबाही मच गई है।

 महिलाओं और बच्चों को नुकसान
वहीं, इजरायली सेना ने कहा है कि, उत्तरी गाजा शहर के जबलिया शहर में शनिवार देर रात फिलीस्तीनी आतंकवादियों ने गलत रॉकेट फायर किया था और वो रॉकेट उसके ही इलाके में गिर गया, जिससे कई बच्चे और आम नागरिक मारे गये हैं। इजरायली सेना ने कहा है कि, उसने घटना की जांच की और "बिना किसी संदेह के" निष्कर्ष निकाला है, कि यह इस्लामिक जिहाद की ओर से मिसफायर के कारण हुआ था। घटना पर कोई आधिकारिक फिलिस्तीनी टिप्पणी नहीं आई है। वहीं, फिलीस्तीन के एक डॉक्टर, जो मीडिया को बयान देने के लिए अधिकृत नहीं थे, उन्होंने नाम नहीं छापने की शर्त पर कहा कि, विस्फोट में तीन बच्चों के साथ कम से कम 6 लोग मारे गये हैं। इससे पहले शनिवार को इजरायल के युद्धक विमानों ने गाजा शहर में चार आवासीय भवनों को निशाना बनाया था और सभी स्थान स्पष्ट रूप से इस्लामिक जिहाद से जुड़े थे। किसी के हताहत होने की सूचना नहीं थी। प्रत्येक मामले में, इजरायली सेना ने हमलों से पहले निवासियों को चेतावनी दी थी।
 
इस्लामिक जिहाद को बनाया जा रहा निशाना
वहीं, शनिवार को एक और स्ट्राइक में एक कार को उड़ा दिया गया, जिसमें 75 साल की एक महिला की मौत हो गई, जबकि 6 लोग घायल हो गये हैं। वहीं, चेतावनी के बाद इजरायली हमले में इस्लामिक जिहाद संगठन के एक आतंकवादी के घर पर दो बम गिराए गये, जिससे उसका घर तबाह हो गया, वहीं आसपास के घरों को भी भारी नुकसान पहुंचा है, हालांकि चेतावनी मिलने की वजह से महिलाएं और बच्चों ने इलाके को खाली कर दिया था। हुदा शामलख नाम की एक महिला, जो उसी घर के आसपास रहती थी, उसने बताया कि, 'उन्होंने रॉकेट दागकर ही हमें चेतावनी दी और हम बिना कुछ घर से लिए भाग गये।' महिला ने बताया कि, जिस घर को उड़ा दिया गया है, उस घर में 15 लोग रहते थे। वहीं, इजरायली हमले में मारे गये 24 फिलीस्तीनी नागरिकों में 6 बच्चे, 2 महिलाएं और एक सीनियर इस्लामिक जिहाद का कमांडर शामिल था। गाजा के स्वास्थ्य मंत्रालय ने कहा कि 200 से ज्यादा लोग घायल हुए हैं और इजरायल नागरिकों और 'सेनानियों' के बीच अंतर नहीं करता है। इजरायली सेना ने शुक्रवार को कहा कि, शुरुआती अनुमान के मुताबिक करीब 15 लड़ाके मारे गए हैं।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *