देश

सत्ता में वापसी की कवायद में जुटी कांग्रेस, गहलोत पायलट की लोकप्रियता पर हुआ गोपनीय सर्वे

जयपुर
राजस्थान में कांग्रेस नेता राहुल गांधी की टीम ने गुप्त सर्वे किया है। राहुल गांधी की टीम पता लगा रही है कि सीएम अशोक गहलोत और सचिन पायलट में से ज्यादा लोकप्रिय कौन है। कांग्रेस सरकार की योजनाओं से आम आदमी को लाभ मिला है या नहीं है। यदि मिला है तो कितना लाभ मिला है। राजस्थान में अगले साल विधानसभा चुनाव होने हैं। इसे लेकर कांग्रेस से चुनावी मोड में आ चुकी है। कांग्रेस के सामने कार्यकर्ताओं को संतुष्ट करना भी बड़ी चुनौती है। सरकार के कामकाज से जमीनी स्तर पर कार्यकर्ताओं को तरजीह नहीं मिलने से उनमें असंतोष है। ऐसे में कांग्रेस के सामने सबसे बड़ी चुनौती अपने कार्यकर्ताओं को साथ लेकर चलना है।

सालभर पहले भी हो चुका सर्वे
राजस्थान में सर्वे करने वाली टीम ने करीब एक दर्जन सवालों पर फोकस किया है। सबसे महत्वपूर्ण सवाल यही है कि गहलोत और पायलट में ज्यादा लोकप्रिय कौन है। हालांकि यह सर्वे पहली बार नहीं हो रहा है। कांग्रेस ने साल भर पहले की सर्वे कराया था। जिसमें गहलोत सरकार का रिपोर्ट कार्ड औसत रहा था। इसके बाद पार्टी ने जिला और राज्य स्तर पर सम्मेलन किए थे। एक साल में यह दूसरी बार सर्वे हो रहा है। प्रदेश में सरकार बदलने का ट्रेंड रहा है। 1985 के बाद कांग्रेस की सरकार रिपीट नहीं हुई। जबकि 1993 के बाद भाजपा की सरकार रिपीट नहीं हुई है। कांग्रेस आलाकमान चाहता है कि राज्य में कांग्रेस की सरकार रिपीट हो इसके लिए राज्य की सभी 200 विधानसभा सीटों पर ग्रुप सर्वे कराया गया है।

 राहुल गांधी के पास पहुंची सर्वे रिपोर्ट
कांग्रेस आलाकमान ने साल में दूसरी बार बुक सर्वे कराया है। उसकी रिपोर्ट राहुल गांधी के पास पहुंच गई है। सभी 200 विधानसभाओं में यह सर्वे कराया गया है। इसमें मुख्यमंत्री अशोक गहलोत और पूर्व मुख्यमंत्री सचिन पायलट के साथ चुनाव में चेहरा कौन होगा। जैसे तमाम सवाल पूछे गए हैं सरकार के कामकाज के साथ विधायकों के परफॉर्मेंस और कामकाज को लेकर भी सवाल पूछे गए हैं। इसके साथ ही मौजूदा विधायकों के दोबारा जीतने की संभावनाएं और राजस्थान में हुए सांप्रदायिक घटनाओं का जनता पर होने वाले असर के साथ करीब 1 दर्जन से ज्यादा सवाल पूछे गए हैं। राजस्थान में पिछले साल विधानसभा सत्र से पहले की कांग्रेस पार्टी ने विधायकों के ट्रेनिंग कैंप के दौरान सीएम गहलोत प्रदेश में पिछले साल हुए सर्वे का जिक्र भी कर चुके हैं। उस समय सीएम ने विधायकों को स्पष्ट किया था कि सर्वे के अनुसार ही कांग्रेस विधायकों को टिकट दिया जाएगा। इसका हवाला देते हुए सीएम ने कहा था कि विधायक जनता के बीच रहकर उनके काम करें। साथ ही मुख्यमंत्री ने विधायकों से कहा था कि सरकार के कामकाज के साथ हर विधायक अपने क्षेत्र की बुकलेट छाप कर जनता में पहुंचाएं। ताकि जनता को कांग्रेस की जनहितकारी योजनाओं की जानकारी मिल सके।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *