भोपालमध्य प्रदेश

आदिवासी की सेवानिवृत्ति,मरणोपरांत फंड उपाधन के डकारे 8.36 लाख रूपए

एसडीओपी चंदेरी को सौंपी जांच मिला न्याय का आश्वासन

चंदेरी
स्टेट बैंक ऑफ इंडिया शाखा दिल्ली दरवाजा चंदेरी में पदस्थ अधिकारियों एवं कर्मचारियों की अनियमित कार्यप्रणाली से एक ओर जहां 80% ग्राहक असंतुष्ट होकर जाते हैं वहीं दूसरी और बैंक में एक नया गोरखधंधा संज्ञान में आया है जहां बैंक प्रबंधन की सांठगांठ से बैंक में ही बरसों से पदस्थ अस्थाई कर्मचारियों  बैंक की आड़ में ब्याज का गोरख धंधा संचालित होने की जानकारी प्राप्त हुई  है इस गोरखधंधे की जानकारी मंगलवार को जनसुनवाई में दिनांक 25/04/ 2023 कोपुलिस अधीक्षक सहित कलेक्टर जिला अशोकनगर कार्यालय में उपस्थित होकर एक आदिवासी परिवार की विधवा महिला एवं उसके परिवार के सदस्यों द्वारा आवेदन प्रस्तुत कर न्याय की मांग की गईथी जिसमें तहसील कार्यालय चंदेरी में चपरासी के  पद पर पदस्थ मृतक फुलुआआदिवासी की विधवा पत्नी एवं संतानों ने उसके पति स्व फुलुआ आदिवासी  की सेवानिवृत्ति दिसंबर 2022में तथा मृत्यु 1 फरवरी 2023 को बीमारी के चलते होने के पश्चात  उनके फंड उपाधन की राशि ₹826914,24871,
रुपए भारतीय स्टेट बैंक के शाखा दिल्ली दरवाजा में फूलुआ आदिवासी के खाते में ट्रेजरी अशोकनगर द्वारा जमा कर दी गई थी जिसे शाखा में ही पदस्थ राजू अहिरवार और उसके पुत्र द्वारा उसके रिश्तेदारों के खाते में चेक के माध्यम से मृत्यु के लगभग 20 और 21 दिन बाद आहरित करा ली गई है।

इस पीड़ित परिवार को उनके पति की मृत्यु के पश्चात यह जानकारी बैंक में स्टेटमेंट निकलवाने के पश्चात प्राप्त हुई जिसकी शिकायत उन्होंने कलेक्टर जिला अशोकनगर सहित पुलिस अधीक्षक से की है। तत्पश्चात मामले को गंभीरता से लेते हुए पुलिस अधीक्षक जिला अशोकनगर द्वारा इस मामले की जांच सुजीत सिंह भदोरिया एसडीओपी को सौंप दी गई थी जिस पर आज फिर पुन: पीड़ित परिवार ने एसडीओपी कार्यालय पहुंचकर संबंधित अधिकारी के समक्ष उपस्थित होकर न्याय की मांग जिस पर ने न्यायोचित कार्यवाही करने का आश्वासन सुजीत सिंह भदोरिया एसडीओपी चंदेरी द्वारा दिया गया।

शासकीय कर्मचारियों के खाली चेक रखकर बैंक की आड़ में चलाते हैं ब्याज का गोरखधंधा
पीड़ित परिवार जनों ने आरोप लगाया है कि राजू अहिरवार  उसका पुत्र दीपेश अहिरवार बैंक की आड़ में शासकीय कर्मचारियों के खाली चेक रखकर ब्याज से पैसा देता है तथा वेतन आने पर स्वयं चेकों के माध्यम से उस पैसे का आहरण कर लेता है हमारा मामला ही एक ऐसा मामला नहीं है यदि कर्मचारी राजू अहिरवार एवं उनके परिवार के सदस्यों,संबंधितों के खातों मैं हो रहे लेनदेन की  व्यापक स्तर पर बारीकी से जांच हो तो एक बहुत बड़ा ब्याज का धंधा संचालित होना पाया जाएगा।

जिन खातों में ट्रांसफर हुए पैसे उन खातों की व्यापक स्तर पर हो जांच
पीड़ित परिवार ने जनसुनवाई में बताया है कि जिन खातों में हमारे पिताजी की राशि ट्रांसफर की गई है उन खातों सहित कर्मचारी राजू परिवार के परिवार के खातों में पूर्व में हुए  लेनदेन की जांच की जाए तो एक व्यापक स्तर पर इन व्यक्तियों द्वारा ब्याज का धंधा संचालित होना पाया जाएगा जोकि बैंक नियमों के पूर्णता विपरीत है हमारा सरकार से निवेदन है कि हमारे हिस्से की राशि हमें प्रदान की जाए साथ ही इस प्रकार के कृत्य करने वालों के विरुद्ध वैधानिक दंडात्मक कार्यवाही की जाए।

इनका कहना
पीड़ित परिवार द्वारा फंड उपाधन में धोखाधड़ी के संबंध में पुलिस अधीक्षक महोदय अशोकनगर को आवेदन प्रस्तुत किया था जिसमें जांच मुझे सौंपी गई थी इस धोखाधड़ी के संबंध में संबंधित व्यक्तियों को नोटिस जारी किए जा रहे हैं साथ ही बैंक कर्मचारी एवम उनके संबंधितों के खातों में हुए लेनदेन की तथा ब्याज का धंधा  संचालित करने संबंधित दस्तावेजों, लाइसेंस  की व्यापक स्तर पर  जांच कर धोखाधड़ी एवं अनियमितता पाए जाने पर वैधानिक दंडात्मक कार्रवाई की जा कर पीड़ित पक्ष को न्याय दिलाया जाएगा।
सुजीत सिंह भदोरिया, अनुविभागीय अधिकारी पुलिस चंदेरी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *