व्यापार

माेबाइल पर अनचाही कॉल करने वाले 32 हजार से अधिक नंबर बंद, 3 साल से लगातार बढ़ रही शिकायतें, ट्राई ने की कार्रवाई

नई दिल्ली
मोबाइल फोन पर अनचाही कॉल और संदेश आने का सिलसिला थम नहीं रहा है। आंकड़ों के अनुसार दूरसंचार नियामक ट्राई को वर्ष 2022 में उपभोक्ताओं की ओर से इस संबंध में नौ लाख से अधिक शिकायतें मिलीं। इस पर कार्रवाई करते हुए टेलीकॉम कंपनियों ने व्यावसायिक कॉल करने वाले 32 हजार से अधिक नंबरों को बंद कर दिया। हर साल बढ़ रहा आंकड़ा: आंकड़ों के अनुसार, अवांछित व्यावसायिक कॉल और संदेश (यूसीसी) भेजने के संबंध में उपभोक्ता शिकायतें बढ़ रही हैं। पंजीकृत टेलीकॉम कंपनियों को वर्ष 2022 में 904,359 शिकायतें मिलीं, जबकि 2021 में यह आंकड़ा 855,771 था। वर्ष 2020 में तीन लाख से अधिक शिकायतें मिली थीं। इन तीन वर्षों में 50 हजार से अधिक नंबरों को बंद किया गया है।

एक दिन की सीमा तय की: व्यावसायिक कॉल और संदेश भेजने के संबंध में नियमों का बार-बार उल्लंघन पाया गया है। इस पर कार्रवाई करते हुए वर्ष 2022 में चार लाख से अधिक नंबरों को चेतावनी जारी की गई। साथ ही तीन लाख से अधिक नंबरों के लिए एक दिन में 20 कॉल और संदेश भेजने की सीमा तय कर दी गई। उपयोग की सीमाएं तब लगाई जाती हैं, जब टेलीकॉम कंपनियां किसी नंबर के खिलाफ शिकायत की जांच करती हैं।
 

क्या हैं मौजूदा नियम: ट्राई ने टेलीकॉम कमर्शियल कम्युनिकेशन कस्टमर प्रिफरेंस रेगुलेशन (टीसीसीसीपीआर)-2018 के तहत नियम जारी किए थे। फरवरी 2019 में इन्हें लागू किया गया। इसके तहत मोबाइल सेवा प्रदाता कंपनियों को टेलीमार्केटिंग करने वाली कंपनियों पर नजर रखना जरूरी है। केवल रजिस्टर्ड टेलीमार्केटिंग कंपनियों को ही व्यावसायिक कॉल करने और संदेश भेजने की अनुमति है। इसके लिए प्रतिदिन की सीमा तय की गई है।

कंपनियों पर कार्रवाई के प्रावधान: दूरसंचार कंपनियां को शिकायतें मिलने के बाद व्यावसायिक कॉल और संदेश भेजने वाली कंपनियों को चेतावनी देनी पड़ती है। नियमों का बार-बार उल्लंघन होने की स्थिति में संबंधित कंपनी की सेवाएं बंद कर दी जाती हैं। टेलीमार्केटिंग नबंर दो से तीन वर्षों के लिए बंद कर दिया जाता है और संबंधित कंपनी को काली सूची में डालने का प्रावधान है।

ग्राहकों को ब्लॉक करने की छूट: ट्राई के अनुसार उपभोक्ता सभी तरह के व्यावसायिक कॉल और एसएमएस को ब्लॉक कर सकते हैं। इसके अलावा वे बैंकिंग, वित्त उत्पाद, इंश्योरेंस, क्रेडिट कार्ड, रियल एस्टेट, एजुकेशन, हेल्थ, ऑटोमोबाइल समेत अन्य सेवाओं में से वरीयता श्रेणियों के अनुसार ब्लॉक कर सकते हैं।

फर्जी कॉल और मैसेज से छुटकारा नहीं: सरकार ने फर्जी कॉल और मैसेज से छुटकारे के लिए 1 मई की समयसीमा तय की थी लेकिन अभी तक इनसे छुटकारा नहीं मिला है। ट्राई की ओर से दूरसंचार कंपनियों को ऑर्टिफिशियल इेंटिलेजेंस (एआई) फल्टिर लगाने का नर्दिेश दिया गया था लेकिन कई कंपनियों ने इसकी शुरुआत अब तक नहीं की है। यह फल्टिर फर्जी बैंकिंग और मार्केटिंग कॉल की पहचान कर उन्हें ब्लॉक करने का काम करता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *